Mutual funds क्या है | Mutual Fund कैसे काम करता है | What is Mutual Fund | How mutual funds works |

Mutual funds क्या है | Mutual Fund कैसे काम करता है | What is Mutual Fund | How mutual funds works |
Mutual funds क्या है | Mutual Fund कैसे काम करता है | What is Mutual Fund | How mutual funds works |

Introduction

Hello दोस्तों क्या आप जानते हैं Mutual Fund क्या होता है ? और Mutual Fund कैसे काम करता है ? अगर आप नहीं जानते इस पोस्ट को ध्यान से पढ़ें।

Mutual funds क्या है ?

Mutual funds एक तरह का fund होता है। जिसको Assets management company (AMC) द्वारा चलाई जाती है। जिसको Securities and Exchange Board of India (SEBI)  के पास Registered की गई होती है।  (SEBI) इसका काम यह होता है कि पब्लिक के पैसे को Protection देना। Mutual Fund सबसे पहले New Fund offering (NFO) के जरिए मार्केट में आता है।  NFO 2 प्रकार के होते हैं।

  • Close ended Mutual Fund जो एक बार आने के बाद इसमें Investment  करना बंद हो जाता है।
  • Open ended Mutual Fund आने के बाद 5 दिनों के लिए बंद हो जाता है। और 5 दिन के बाद फिर से Investment open market मैं शुरू हो जाती है।

जब भी यह NFO Open Market मैं Trade करना शुरू करता है तो उसे Mutual Fund कहते हैं।

Mutual funds कैसे काम करता है ?

Mutual funds जब Open Market मैं ट्रेड चालू होता है तो Public के द्वारा पैसे इसमें Invest किए जाते हैं। इसमें कुछ Minimum amount of Investment करना जरूरी  होता है। ज्यादातर मामलों में Lumpsum के लिए 5000/- और SIP के लिए 500/- होता है। दोस्तों यह Amount दिखता तो छोटा है पर बहुत सारे लोग इसमें Investment करते हैं तो यह Amount सबका मिलाके 1000 करोड़ से भी ऊपर पहुंच जाता है। फिर यह पैसा जिस भी (AMC) Assets management company के जो भी Fund मैं आप ने डाले हैं उसके Fund Manager के पास पहुंचता है। यह Fund Manager अपनी पूरी Team ( इसके अंदर Economics Experts, Finance MBA, CA , CS, Share Market Experts etc. शामिल होते हैं)  इनके साथ बैठकर यह Fund को कहां पर Investment करना है उसके बारे में विचार विमर्श करते हैं। SEBI की दी गई Guidelines और Fund type के हिसाब से Investment करते हैं।

MUTUAL FUND Type क्या होता है ?

जैसा कि आपने ऊपर देखा की Mutual funds अपने Fund Type के हिसाब से Investment करते हैं। तो आपके मन में भी सवाल आता होगा कि यह Fund Type क्या होता है ? Mutual Fund मैं बहुत सारे Fund Type होते हैं। पर हम यहां पर मुख्य 3 Type के बारे में समझेंगे।

Equity Mutual Fund

जैसे कि आप नाम से समझ सकते हैं यहां पर Equity। (Shares) मैं ही Investment होगा। पर इसके अंदर बहुत सारी Sub-type भी होती है। जैसे कि

  • Top 100 Mutual Fund
  • Midcap Mutual Fund
  • Smallcap Mutual Fund

ऊपर आप देख सकते हो Equity Mutual Fund के अंदर भी 3 Subtype है। तो कोई भी Fund Manager Top 100 Mutual Fund के लिए लिया हुआ पैसा Midcap या Smallcap मैं नहीं लगा सकता।

Debt Mutual Fund

जैसे कि नाम से पता चलता है की यह Debt मैं Investment करता है। जैसे कि Government  Bonds & Non Government (Corporates) Bonds मैं ही कर सकते हैं। ना यह Equity मैं ना और किसी जगह Investment कर सकता है।

  1. Hybrid Mutual Fund

जैसे कि नाम से पता चल रहा है कि यह Hybrid मतलब किसी भी जगह Investment कर सकता है। पर जभी इसका NFO आता है उस Document मैं लिखा हुआ Percentage के हिसाब से ही कर सकता है। यह Fund Stock,  Debt, Metal मैं से जहां पर भी अच्छी opportunities दिखती है वहां पर Investment करते हैं।

SEBI Guidelines क्या होती है ?

SEBI Government के द्वारा संचालित Statutory Body है। जिसका काम Investor के हित की रक्षा करना है। ताकि investors के साथ किसी भी तरह का fraud ना हो सके। इसकी स्थापना 30 जनवरी 1992 को की गई थी। SEBI ने ही कुछ Rules & Regulations बनाए हैं जिसको आप Guidelines कह सकते हैं। वैसे तो SEBI की बहुत सारी Guidelines है। और वह वक्त के साथ बदलती रहती है इसमें से कुछ common point भी है।

  • Mutual Fund Type के हिसाब से ही Investment कर सकते हो दूसरे किसी भी Type मैं Investment नहीं कर सकते।
  • Fund Manager कुछ ही पैसे को Cash Reserves रख सकता है। यह Fund size के percentage पर decide होता है।
  • Fund Manager कुछ ही percentage Commission के तौर पर ले सकता है।
  • Fund Manager को अपने Fund के Portfolio का ब्यौरा समय-समय पर SEBI को देना होता है।
  • Fund Manager अपना Fund Hedge कर रहे कि नहीं वह भी देखना होता है।

Hedge करना क्या होता है ?

ज्यादातर मामलों में Fund Manager 3% से 7% तक का ही Fund  Cash Reserve रखता है। और बाकी के सभी पैसे वह Invest करता है। यह cash reserve ज्यादातर इसलिए रखा जाता है कि अगर किसी ने Mutual Fund withdrawal किया तो उसको देने के लिए।

आपके दिमाग में यह सवाल जरूर आया होगा कि अगर सभी पैसे वह Invest कर रहा है, और अगर मार्केट गिर गई तो क्या होगा। तो इसके लिए ज्यादातर मामलों में Fund Manager कई बार  Hedge करके भी रखता है  ताकि अगर मार्केट गिरे तो उनको ज्यादा नुकसान ना हो। इसके बारे में हम एक Example से समझते हैं।

हाल ही में हुए incident से समझते हैं। Adani Enterprise जब यह कंपनी का शेयर का भाव 1700/- था। उसके बाद इसके अंदर कुछ खराब खबरें आई तो यह कंपनी का भाव गिर के 1350/- तक पहुंच गया था। अगर किसी Fund Manager यह पास यह कंपनी का shares होता तो उसको भारी नुकसान हो जाता। अगर उसने Put लेकर Hedge किया होता तो नुकसान कम हो जाता।

10000 Share ×1700 = 17000000
10000 Share× 1350 = 13500000
Loss 3500000/- का होता पर अगर इसके सामने उसने 100 lot Put खरीद ली होती तो उसको कम नुकसान होता शायद मुनाफा भी होता।
Put का मतलब जो भी  Share की Current Market Price होती है उससे नीचे के भाव में दाव लगाना इसे मंदी करना भी कहते हैं।
10 Lot Means 10×1000 Adani Enterprise का 1 lot 1000 का होता है। अगर आपने 200 Point नीचे में Put खरीदते हो तो उसमें ज्यादा से ज्यादा 25/- रुपए का हि Premium होता है।
10000 × 25 = 250000
अगर तो यह Share नहीं गिरता तो Fund Manager को 250000/- का नुकसान होता लेकिन  Share गिर गया तो इस Put का Value 200/- रुपए के ऊपर चली गई थी।
25 – 200 = 175 Profit
10000 × 175 =1750000 Profit
इसका मतलब Share Price गिरने से 3500000/- का Loss हुआ था पर Put खरीदने से 1750000/- का Profit हुआ जिससे Loss कम होकर आधा 1750000/- हो गया।

आम आदमी Mutual Fund मैं invest क्यों करता है ?

Mutual funds structure
Mutual funds structure

Mutual Fund मैं बहुत सारे लोग थोड़े थोड़े पैसे Invest करके बड़ा Fund बनाते हैं। ऊपर के दिखाए गए चित्र में आप देख सकते हो 6 लोगों ने मिलकर Mutual Fund मैं Invest किया है। जिससे Mutual funds का Size बड़ा हो गया है ऊपर दिखाया गया चित्र एक Example है। वास्तव में Investment करने वाले हजारों लाखों में होते हैं। तो Fund size 1000 करोड़ से ऊपर चला जाता है।

एक आम आदमी की Investment करने की क्षमता कम होती है। जबकि  Mutual Fund Manager के पास करोड़ों में पैसा होता है।

अगर कोई आदमी Share Market मैं Direct investment करना चाहता है तो उसके लिए रोजाना Share Market और लिए हुए Share के भाव को देखना होता है। और उसे Economy और आने वाले Events की भी जानकारी रखनी होती है। जैसे कि Budget,  RBI policy, Quarterly Results of Company, Etc। एक आम आदमी को यह होने वाले Events की जानकारी रखना और उसका Effect  Share Market या Share Price पर क्या होगा उसकी जानकारी नहीं होती।  जिसकी वजह से भारी नुकसान उठाना पड़ सकता है। दूसरी तरफ Mutual Fund है जहां पर बहुत सारे Experts और Economics होते हैं जो पहले से ही अनुमान लगा देते हैं। कि आने वाले Events मैं क्या हो सकता है। कई बार ऐसी न्यूज़ आती है जीससे Share Price एकदम से गिर जाते हैं। तो Fund Manager को सबसे पहले पता चल जाता है। क्योंकि उनका Network बहुत बड़ा होता है। और वह लोग तुरंत ही Action लेकर अपना नुकसान कम कर लेते हैं।

एक आम आदमी छोटी अमाउंट से Start करते हैं। जिसकी वजह से वह Hedge नहीं कर सकते। क्योंकि ऊपर दिखाए गए Example मैं 1000 Share का Adani Enterprise का एक lot था। अगर वह Adani Enterprise का एक lot की Quantity खरीदने जाए तो उसको 1700000/- रुपए देने होंगे अगर इतने पैसे नहीं है। तो वह 1 Lot Put कैसे खरीदेगा। जिससे कि एक आम आदमी Hedge नहीं कर सकता। पर Mutual Fund के पास बहुत सारे पैसे होते हैं तो वह कर सकते हैं।

एक आम आदमी को अगर किसी भी Share मैं नुकसान होता है तो वह नुकसान अकेले को ही उठाना पड़ता है। पर Mutual Fund मैं बहुत सारे लोगों ने पैसे दिए हैं तो नुकसान भी बट जाता है।

Mutual funds मैं Valuation कैसे निकालते हैं ?

Mutual funds मैं Valuation निकालने के लिए 2 चीजों को गुना करना पड़ता है। जिसमें से 1) Fixed होती है। 2) रोजाना बदलती रहती है। यह सब जानकारी आपको आगे दूंगा।

Unit of Mutual funds

जैसे आप किसी Mutual Fund मैं Invest करते हो तो आपको Unit Allotment किया जाता है जो Fixed होती है।

Net Assets Value (NAV)

जैसे आप किसी Mutual Fund मैं Invest करते हो तो आपको NAV के हिसाब से Allotment किया जाता है। यह रोज बदलती रहती है।

अगर आप 10000/- का  Mutual Fund लेने जाओगे और उस वक्त NAV 225 रुपया होगी तो आपको। 
 
10000 ÷ 225(NAV) = 44.44 Unit ही मिलेंगे
कुछ दिनों के बाद अगर NAV 238 रुपया हो जाती है तो
44.44 (Unit) × 238 (NAV) = 10576.72 Value गिनी जाएगी।

Mutual funds मैं Direct और Regular Plan क्या होता है ?

जब भी आप Mutual Fund लेने जाते हो तो वहां पर सबसे अंत में Direct/Regular लिखा होता है। इसके बारे में आप आगे समझेंगे

Direct Plan

जैसे कि आप नाम से समझ सकते हो यहां पर आप Direct Mutual Fund  मैं Invest करते हो यहां पर आपके और Mutual fund company के बीच में कोई भी Agent नहीं होता। जिसका फायदा यह है कि Agent को देने वाला Commission आपको Unit के तौर पर ज्यादा मिलता है। इसका नुकसान यह है कि आपको कौन से Fund मैं Invest करना है जिसमें ज्यादा फायदा हो वह आपको खुद से ही ढूंढना होता है।

Regular Plan

जैसे कि आप नाम से समझ सकते हैं यहां पर आप Regular Investment का काम होता है। वैसे होगा शुरू से ही आप जभी Investment करना चाहते हो तो आप किसी Agent को पकड़कर उसको सभी Document और Cheque दे देते हो। वह Agent Mutual Fund company मैं जाकर आपका Document और Cheque Deposit कर लेता है। यहां पर फायदा यह है कि आपको इसके लिए अलग से समय निकालने की जरूरत नहीं रहती। बहुत सारे Agent घर तक आकर सभी Document और  Cheque लेकर जाते हैं और Mutual fund company मैं जाकर Submit भी कर देता है। इसका नुकसान यह है कि Agent का Commission की वजह से आपका Unit कम हो जाएगा।

Mutual funds मैं Growth और Dividend Plan क्या होता है ?

जब भी आप Mutual Fund लेने जाओगे तो उसमें आपको Growth और Dividend शब्द लिखा हुआ मिलेगा। जिसके बारे में आप आगे समझेगे

Growth Plan

जैसे कि आप नाम से समझ सकते हैं यहां पर आपका Investment Grow होगा। जिसका फायदा यह है कि आपकी Investment अपने आप ही बढ़ती रहेगी। इसका नुकसान यह है कि आप अगर इसमें से Regular Income Generate करना चाहते हो तो वह नहीं होगी। पर आप चाहे तो आप एक साथ में या किस्त में पैसे उठा सकते हो।

Dividend Plan

जैसे कि आप नाम से समझ सकते हैं यहां पर आपको Dividend के रूप में पैसे मिलते जाएंगे। इसका फायदा यह है कि आपको Regular Income Generate होती जाएगी। पर इसका नुकसान यह है कि आपकी Investment नहीं बढ़ेगी। यह जो Dividend आपको दिया जाएगा वह आपके Unit मैं से कम होती जाएगी।

concussion

दोस्तों मैंने यहां पर Mutual Fund से लगते हुए सभी चीजें बताने का प्रयास किया है। जब कभी भी आप Mutual Fund लेने का सोचे तो अब इन सभी पोस्ट को ध्यान से पढ़ें और समझे। कई बार ऐसा होता है कि आपके जरूरत के हिसाब से Mutual Fund नहीं लेते हो क्योंकि या तो आपको इसकी समझ नहीं है। या तो Agent आपको बताता नहीं है इसके लिए मैंने Mutual Fund से जुड़ी हुई सभी जानकारी आपके सामने रख दी है। अगर आपको Mutual Fund , Account,  Tally ,Tax और Investment के बारे में कुछ भी जानकारी चाहिए तो आप Comment Box मैं पूछ ले हो सके उतनी जल्दी जवाब देने का प्रयास करूंगा।

धन्यवाद

Leave a Comment