IPO क्या होता है | What is IPO |

0
205
IPO क्या होता है | What is IPO |

 

IPO क्या होता है | What is IPO |
IPO क्या होता है | What is IPO |

Introduction

Hello दोस्तों यहां पर हम IPO क्या होता है ? कैसे काम करता है ? इसमें काम करने के लिए किन चीजों की आवश्यकता होती है ? इसके फायदे और नुकसान क्या होते हैं ? इसके बारे में समझेंगे।

IPO क्या होता है ?

IPO का Full Form Initial Public Offering है, जब किसी कंपनी को Share Market मैं आना होता है उसे IPO के जरिए ही आ सकता है 

 

उदाहरण के तौर पर अगर आपने किसी कंपनी बनाई है, और उसे Share Market List करवाना चाहते हो, तो सबसे पहले आपको एक Prospects बनाना पड़ेगा, जिसको Government के द्वारा संचारित SEBI के पास Submit करना होगा, SEBI सभी चीजों को Verified करेगी, और अगर सब ठीक रहा तो आप को IPO निकालने की परवानगी देगी। यहीं से शुरू होता है IPO का सफर।

IPO लाने से पहले क्या काम किया जाता है ?

अगर किसी भी कंपनी को IPO लाना है तो उसको सबसे पहले Investment Bankers और Under writing Agency को Hire करना होता है, इसका काम IPO से जुड़ी हुई सभी Procedure Clear करना होता है, दोनों के अपने अपने काम होते हैं।

IPO के लिए Investment Banker का क्या काम होता है ?

जैसे ही कोई कंपनी IPO लाने के बारे में सोचती है तो सबसे पहले वह Investment Bankers को Select करके उनको Hire किया जाता है। जिसका काम IPO को लाने के लिए जो भी Procedure है, उसे Clear करना होता है। ज्यादातर यह 5 भाग में Divide किया जाता है।

Hire Under writing Agency

यहां पर Investment Bankers का सबसे पहला काम होता है Under writing Agency को Hire करना। या तो वह Under writer खुद बन जाती है, या तो दूसरी Company’s को Hire करती है। कभी-कभी ऐसा भी होता है कि वह Under writer को Hire ना करें।

 

सबसे पहले यह समझते हैं कि Under Writing Agency का काम क्या होता है। मान लो XYZ Ltd अपना IPO 1000 cr का लाना चाहती है। तो यहां पर Under Writer का यह Commitment होता है कि वह पूरा बेच देंगे, और अगर नहीं Sale कर पाए तो वह खरीद लेंगे, इसलिए Investment Bankers खुद ही Under Writer बन जाते हैं। कभी-कभी ऐसा होता है कि IPO बहुत बड़ा हो, और 1 Under writer से Commitment नहीं हो पा रही हो, तो वह दूसरे लोगों से भी Under writing करवा सकती है। और कभी कभी Company यह भी बोल सकती है कि मुझे Under Writer की जरूरत नहीं है, तो उस स्थिति में Under Writer नहीं होते हैं।

Under Writer होने से Company Tension Free हो जाती है, क्योंकि अगर IPO Fully Subscribe नहीं होता तो भी Under writing Agency उसे खरीद लेती है।

Valuation निकालना

Investment Bankers इसके बाद Company की Valuation निकालते हैं, इससे उन्हें पता चलता है कि कितने रुपए के Share का IPO लाना है। ऊपर दिखाए गए उदाहरण से समझे तो XYZ Ltd की Valuation 2000 Cr है, उसमें से 50% Share के IPO लाना चाहती है तो 1000Cr रुपए के Share का IPO लाना होगा।

Price Band निकालना

जैसे ही Valuation निकाल कर IPO Size निकाल लेते हैं, तो इसके बाद Price Band निकालना होता है। इसके लिए बहुत समझदारी से काम करने की जरूरत होती है। क्योंकि मान लो XYZ Ltd 200 रुपए के भाव से Share निकालना चाहती है, तो उसे 5 Cr Share Issue करने होंगे, और उसमें 75 Share  Lot size रखना होगा, क्योंकि SEBI की Guidelines के हिसाब से आप एक Lot 15000/- से ज्यादा नहीं होनी चाहिए।

अगर एक Price पर अगर IPO आता है तो उसे Fixed Price Issue बोला जाता है, जैसे कि ऊपर दिखाए गए उदाहरण में 200 का भाव लिखा है।

पर अगर कोई कंपनी 2 Price देती है तो उसे Price Band Issue कहा जाता है, एक उदाहरण से समझते हैं  XYZ Ltd 180-200 Price Band रखती है, तो इन दोनों भाव के बीच में आप BID लगा सकते हो। पर यह दोनों भाव के बीच 20% से ज्यादा फर्क नहीं होना चाहिए। इन दोनों भाव के बीच एक और ऑप्शन मिलती है, जिसको Cutoff Price कहां जाता है। ज्यादातर लोग Cutoff Price ही सिलेक्ट करते हैं, और आपको भी यही सिलेक्ट करना होगा। ताकि जिस Cutoff Price को Company Select करेगी, वही Price पर आपको Share Allot होंगे।

Red Herring Prospects

 

एक बार Price Band और Lot Size Decide होने के बाद Investment Bankers Red Herring Prospects बनाना चालू कर देंगे। जिसके अंदर Promoters की सारी जानकारी होगी, Company की सारी जानकारी होगी, Company  की सारी Financial जानकारी होगी, Company आने वाले दिनों के लिए क्या Plan है उसकी जानकारी होगी, जैसे कि यह पैसे को कैसे इस्तेमाल करेंगे।

Legal Formality

जैसे ही Red Herring Prospects तैयार हो जाएंगे वैसे ही Investment Bankers सारी Legal Formality Clear करना शुरू कर देंगे। इसके अंदर SEBI से Permission लेना, NSE/BSE मैं Listing करवाना, ROC मैं Registered करना, और दूसरी सभी Formality Clear कर देगी।

 

इसके अलावा भी Investment Bankers के कई सारे काम होते हैं, और जो मुख्य काम थे वह मैंने बता दिया।

IPO कैसे काम करता है ?

IPO को जब SEBI के पास से Approval मिल जाता है, उसके बाद IPO Share Market मे लाने के लिए सभी तरह की Marketing शुरू की जाती है। सभी तरह के बड़े-बड़े Investor को Approach किया जाता है। इसके लिए आपको Investor के प्रकार के बारे में समझना होगा, मुख्यतः 3 प्रकार के Investor होते हैं।

QIB Investor (Qualified Institutional Buyer)

या एक तरह की Mutual Fund company, Pension Plan Company,  Insurance company होती है। जिनको IPO का सबसे बड़ा हिस्सा 50% Allotment होता है।

HNI (High Net worth Investors) & NII (Non-Institutional Investors)

जैसे कि आप नाम से ही समझ चुके होंगे, यह बड़े-बड़े Individual Investor होते हैं। यह लोग Mutual Fund जैसे Institutional नहीं होते, पर उनके जैसे ही बड़े-बड़े अमाउंट में Investment करते हैं। जिनको IPO का 15% Allot किया जाता है।

Retail Individual Investor (RII)

जैसे कि आप नाम से समझ गए होंगे यह हमारे जैसे आम लोगों के लिए होता है। इसके अंदर छोटे-छोटे Investor पैसा डालते हैं। जिनको IPO का 35% Allot होता है।

 

ऊपर बताए गए Investor के प्रकार को देखकर आप समझ गए होंगे कि Investment Bankers & IPO लाने वाली कंपनी ज्यादातर QIB और HNI/NII लोगों  Approach करती है। क्योंकि इनकी संख्या कम होती है और Investment ज्यादा करती है।

IPO मैं Investment करने के लिए किन चीजों की आवश्यकता होती है ?

अगर आप IPO मैं Investment करना चाहते हो तो आपको Demat Account और Bank Account की आवश्यकता होती है। इसके अलावा आपका Bank Account मैं Online Banking Feature चालू होना चाहिए। इसके अलावा अगर आपके पास UPI Facilities है, तो चलेगा क्योंकि पहले Offline Form Application करके आप IPO भर सकते हैं। पर आज के दिन NET BANKING/UPI से ही IPO भर सकते हो।

NET BANKING से IPO भरते वक्त (ASBA) क्या होता है ?

अगर आप Net Banking से IPO Application करते हो तो आपको ASBA Option के अंदर जाकर Apply करना होगा। इसका मतलब Application Supported by Blocked Amount होता है। अगर आप इससे Application करोगे तो आपके Bank से Amount कुछ वक्त Block हो जाएगी, और जब आपको Share Allot होंगे तब निकल जाएगी, और नहीं लगे तो वाह Amount Unblock हो जाएगी।

IPO Application करते वक्त Cutoff Price Select करना जरूरी है ?

यहां पर मैं आपको कहना चाहता हूं हां करना जरूरी है क्योंकि जब IPO Price Band Issue पर आता है तब दोनों Price के बीच में कहीं पर भी Cutoff हो सकता है, तो अगर आपने Upper Band लिखा और उसके नीचे Cutoff आया तो आपका नुकसान हो जाएगा।

 

ऊपर दिखाए गए उदाहरण से समझते हैं अगर XYZ Ltd 180-200 Price Band Issue लाती है, तो अगर आपने 200 रुपए पर BID लगाई और IPO Cutoff 190 पर आया, तो आपको 10 रुपए के हिसाब से नुकसान हो जाएगा।

 

यहां पर आप सोचोगे कि मैं नीचे वाले Floor Price डालूंगा अगर आपने Floor Price लिखा, तो Cutoff Price के नीचे होने की वजह से आपको Share Allot होगा ही नहीं।

 

ऊपर दिखाए गए उदाहरण से समझते हैं अगर XYZ Ltd 180-200 Price Band Issue लाती है, तो अगर आपने 180 रुपए पर BID लगाई और IPO Cutoff 190 पर आया तो, आपको Allotment मिलेगा ही नहीं।

 

यहां पर SEBI की तरफ से सहूलियत दी गई है की आप Cutoff Price Select करके Allotment होने का Chances बढ़ा लेते हो।

 

IPO Allotment कैसे होता है ?

IPO एक ऐसी जगह है जहां पर किसी का कुछ नहीं चलता, यहां पर Investor के प्रकार के हिसाब से Allotment Quta Decide किया होता है। जो मैंने आपको ऊपर बताया है। सब Quta Lottery System से ही Allotment होता है। कभी-कभी Company Employees के लिए और Existing Customers के लिए अलग से Quta बनाया जाता है।

 

जैसे कि कुछ दिनों पहले जब HDFC AMC का IPO आया था तब Company की तरफ से कहा गया था, अगर कोई HDFC के Existing Shareholders है उसे Share Allot किए जाएंगे।

IPO मैं Investment करने के फायदे और नुकसान ?

अगर आपने IPO मैं Investment करने का मन बना ही लिया है, तो आपको इसके फायदे और नुकसान के बारे में समझना जरूरी है।

IPO मैं Investment के फायदे ?

यहां पर Investment करने का सबसे बड़ा फायदा यह है कि आप शुरू में ही Company Shareholder बन जाते हो, और आपको सस्ते Valuation पर Share मिल जाते हैं, और कभी कभी ऐसा होता है कि IPO Listing 100% के ऊपर होता है। आप चाहे तो Dmart की History देख सकते हो।

 

IPO मैं Investment के नुकसान ?

यहां पर Investment करने का नुकसान यह है कि IPO के Application करने के बाद वह आपको Allotment मिलेगा इसकी कोई भी Guarantee नहीं  है। आपने 15000 रुपए का एक Lot Application किया हो, जो आपके Bank Account मैं 15 दिन के लिए Blocked हो जाए, और आपको Share Allot ना हो, और बाद में जाकर Bank का पैसा Unblock हो जाए। वह आपके पैसे 15 दिन के लिए कोई काम के नहीं होंगे। और ऐसा भी हो सकता है कि आपने जो Share Application किया है वह Discount पर भी Listing हो तो आपको नुकसान भी हो सकता है। Reliance Power की History जाकर देख सकते हो।

 

यहां पर मेरा उद्देश्य आपको डराना या फिर बड़े-बड़े सपने दिखाना नहीं है। अगर आप 1 Lot Application करने के लिए 15000 रुपए की जरूरत होती है, अगर तो आप यह पैसे 15 दिनों के लिए भूल सकते हो तो आप जरूर से IPO Application करें।

 

यहां पर Profit और Loss कि किसी भी प्रकार की Guarantee नहीं दी जा सकती, पर आप उसके 3 साल का Financial Statements देखकर अंदाजा लगा सकते हो कि इसमें Investment करना चाहिए कि नहीं।

 

और अगर आपको Financial Statements पढ़कर समझ में ना आता हो तो सबसे अच्छी चीज grey market premium देखकर अंदाजा लगा सकते हो, कि यहां पर Investment करनी चाहिए या नहीं,

 

grey market premium क्या होता है यह मैं आपको आने वाले Post मैं बताऊंगा, और आपको Upcoming IPO की सारी जानकारी FINANCIAL STATEMENTS और उसका grey market premium क्या है सबका Post बनाकर इसी Website पर डालते जाऊंगा जिससे आपको सहूलियत होगी।

Conclusion

दोस्तों मैंने यहां पर IPO के बारे में सभी जानकारी देने का प्रयास किया है। जैसे कि IPO क्या होता है ? IPO लाने  से पहले क्या काम किया जाता है ? IPO मैं Investment करने के लिए कौन सी चीजों की जरूरत होती है ? इसके अलावा भी कई सारी चीजों को विस्तार में बताने का प्रयास किया है  मैंने पहले लिखे हुए Share Market क्या है, और कैसे काम करता है, इसके अंदर भी IPO के बारे में जानकारी दी है  इसमें से मैंने कुछ जानकारी यहां पर नहीं बताई है, क्योंकि अगर बताने जाऊंगा तो यह पोस्ट बहुत लंबा हो जाएगा। अगर आपको कोई चीज समझ में ना आए हो या कुछ पूछना हो तो आप नीचे Comment करके पूछ सकते हो। इसके अलावा अगर आपको Mutual Fund, Account, Tally, Tax और Investment के बारे में कुछ भी जानकारी चाहिए तो आप Comment Box मैं पूछ ले, हो सके उतनी जल्दी जवाब देने का प्रयास करूंगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here