Bank कैसे काम करता है | How Bank Work |

0
183
Bank कैसे काम करता है | How Bank Works |
Bank कैसे काम करता है | How Bank Works |

 Introduction

Hello दोस्तों यहाँ पर आज हम Bank क्या है? कितने प्रकार के हैं? Bank क्यों बनाया गया है? Bank कैसे काम करती है? और भी कई सारे सवालों के जवाब मिलेंगे। लेकिन सबसे पहले आपको Bank लाने की जरूरत क्यों पड़ी के बारे में समझेंगे।

Bank लाने की जरूरत क्यों पड़ी ?

आपको सबसे पहले यह समझना होगा कि, पहले के जमाने में Bank का काम कौन करता था। तो मैं आपको बता दूं पहले के जमाने में Bank का काम साहूकार लोग करते थे। जहाँ पर Organized तरीका नहीं होता, वह लोग अपने पास पैसा ब्याज पर रखने के लिए किसी भी तरह के Fixed Interest देने का वादा नहीं करते थे, और दिए गए Loan पर मन मुताबिक ब्याज वसूलते थे, और समय पर पैसे ना देने पर या फिर एक दिन की भी तेरी होने पर Morgage रखी हुई चीजों को जप्त तक कर लिया जाता था। 

 

इन सब परेशानियों को दूर करने के लिए Government ने सोचा क्यों ना एक ऐसा System बनाया जाए जो इन सब परेशानी से छुटकारा मिले। और एक ऐसी Regulations रखने वाली Government Body को सौंप दिया जाए। यही Government Body को हम RBI (Reserve Bank of India) के नाम से जानते हैं।

Bank क्या है ?

आप ऊपर पढ़ कर समझ गए होंगी कि यह एक तरह की RBI के Guidelines से संचारित ऐसी Organizations है, जिसमें लोग पैसे Deposit करते हैं, और कई लोग Loan लेते हैं। इन दोनों के ब्याज दर के बीच में जो फर्क होता है, उनसे मुनाफा कमाती है।

 Bank कितने प्रकार के होती है ? 

भारत में बहुत सारे Bank है, सभी Bank RBI की दी हुई Guidelines के हिसाब से ही काम करती है, भारत में मुख्य था 3 तरह की बैंक है, जिसके बारे में आप विस्तार से समझेंगे।

Government Undertaking Bank

जैसे कि आप नाम से ही समझ गए होंगे यह एक Government Undertaking Bank हे, जिसका ज्यादा तर हिस्सा Government के पास होता है। यह Bank सभी तरह की Services देती है, जो आमतौर पर सभी प्रकार की Bank दे सकती है। इनको भी RBI policy का पालन करना होता है। इसका एक सही Example Union Bank Of India है।

Private Bank

जैसे कि आप नाम से पहचान गए होंगे यह एक Private लोगों से संचालित Bank है, इसके अंदर Government का कोई भी हिस्सा नहीं होता, यह सभी तरह की Services देती है जो आमतौर पर सभी प्रकार के बैंक दे सकती है। इनको भी RBI policy का पालन करना होता है। इसका एक सही Example HDFC Bank हे।

Cooperative Bank

जैसा कि आप नाम के समझ गए होंगे यह एक Cooperative Bank है। जो छोटे-छोटे लोगों के समूह से बनाई जाती है, ज्यादातर मामलों में ऐसी Bank गाँव में पाई जाती है, ज्यादातर मामलों में RBI Guidelines नहीं काम करती है, और यह सभी तरह की Services नहीं दे पाती, इसका सही Example Abhyudaya Cooperative Bank है।

Bank कौन सी Services देती है ?

एक Bank कई तरह की Services देती है पर सभी को यहाँ पर बताना मुमकिन नहीं है, पर ज्यादातर जो Services देती है उसके बारे में हम समझते हैं।

Bank Account Services

आमतौर पर Bank की पहेली और बड़ी Services देखे तो वह Bank Account खोलना होता है। और सभी बैंक यह Services देती है। मुख्यता बैंक में आप 4 प्रकार के खाता (Account) खोल सकते हैं।

Savings account

एक आम आदमी यह खाता अपने जीवन में खुलवाताहि है। अगर किसी के पास कुछ पैसे बच जाते हैं तो वह यह खाते में पैसा भर देता है।

Current Account

अगर किसी को अपना Business चालू करना होता है, तो इसके लिए यह खाता खुलवाना अनिवार्य होता है।

Overdraft Account

अगर किसी आदमी को बार-बार Loan लेने की जरूरत पढ़ती रहती है, तो वह आदमी यह अकाउंट खुलवाता है।

Demat/Trading Account

अगर किसी आदमी को Share Market मैं काम करना हो तो उनको यहाँ पर खाता खुलवा सकते हैं। लेकिन यह Services Private और Government Bank ही देती है।

Investment Services

बैंकों में आप Investment करना चाहते हो तो उसकी भी Services देती है। सभी बैंक इस प्रकार की Services देती है, यह Bank मुख्यतः 4 प्रकार के Investment की Services देती है।

Fixed Deposit

आप Bank मैं जाकर अपने खातों में रखे हुए पैसे को Fixed Deposit करवा सकते हैं। जिसके सामने आपको ब्याज मिलता है। सभी Bank के ब्याज दर अलग-अलग होते हैं।

Recurring Deposit

आप Bank मैं अगर कोई बड़ा पैसा नहीं है, लेकिन आप छोटे-छोटे Amount हर महीने Investment करना चाहते हो तो आप Bank मैं जाकर Recurring Deposit खोल सकते हो।

Insurance Services

अगर आप अपना Insurance करवाना चाहते हो तो आप Bank मैं जाकर Insurance भी कर सकते हो। यह लोगों का Insurance company के साथ करार होता है। Cooperative Bank मैं हो सकता है आपको यह ना मिले।

PPF (Public Provident Fund)

अगर आप PPF मैं Investment करना चाहते हो तो आप Bank मैं जाकर करवा सकते हो। पर Private और Cooperative Bank मैं हो सकता है आपको यह ना मिले।

Loan Services

Bank का काम ही ज्यादा ब्याज दरों पर Loan देने का होता है, यहाँ पर ज्यादा का मतलब उन्होंने जो Saving Account, Fixed Deposit, Recurring Deposit, से जो पैसे इकट्ठे किए है, और उन पर जो ब्याज दे रहे हैं, उसे ज्यादा ब्याज दरों पर वह पैसे देने का काम होता है। और Bank की ज्यादातर आए उसमें से ही आती है। Bank मुख्य तौर पर 3 प्रकार की Loan देती है।

Housing Loans

अगर आप घर लेना चाहते हो और आपको उसके लिए Loan लेने की आवश्यकता लगती है तो आप Bank मैं जाकर Housing Loans ले सकते हो।

Car Loan

अगर आप Car लेना चाहते हो और आपको उसके लिए Loan लेने की आवश्यकता लगती है तो आप Bank मैं जाकर Car loan ले सकते हो।

Personal Loan

अगर आपके ऊपर कोई Emergency आ जाती है, और आपको पैसे की जरूरत होती है, तो आप Bank मैं जाकर Personal Loan ले सकते हो पर इसके लिए आपको कुछ गिरवी रखना पड़ता है।

Business Loan

अगर आपके Business मैं पैसों की जरूरत पड़ जाती है, तो आप Bank मैं जाकर Business Loan ले सकते हो। पर इसके लिए आपको बैंक की सारी Procedure Clear करनी होगी। और कभी-कभी Bank इसके लिए आप से कुछ गिरवी भी रखवा सकते हैं।

 

मैंने यहाँ पर Bank के द्वारा दी जाने वाली बहुत सारी Services के बारे में बताया है। पर इसके अलावा वह लोग बहुत सारी Services देते हैं। जिसके बारे में यहाँ पर बताना मुमकिन नहीं है। पर इससे आपको मुख्य दी जाने वाली Services के बारे में पता चल गया होगा।

Bank कैसे काम करती है ? 

अब हम हमारे मुख्य मुद्दे पर आते हैं कि Bank कैसे काम करता है  और इसको समझने के लिए आपको नीचे दिए गए Photo को ध्यान से देखना जरूरी है।

 
Bank Working Structure
Bank Working Structure

 

 

जैसे कि आप ऊपर वाले फोटो में देख रहे हो Bank का पूरा Structure बनाया हुआ है। इसके अंदर आप देख सकोगे Green रंग के अंदर Saving Account लिखा हुआ है। Bank अपने खाता धाराको के Saving Account के पैसों पर ज्यादातर मामलों में 3.50% के आसपास ब्याज देती है। और Blue रंग में आप देख सकते हो Deposit लिखा हुआ है Bank मैं जो Fixed Deposit और Recurring Deposit बनाई जाती है, उसके ऊपर Bank ज्यादातर मामलों में 5.50% तक का ब्याज देती है। Bank के पास यह सब पैसे जमा होते हैं, वह Loan के रूप में दूसरों को दिया जाता है। ज्यादातर मामलों में 9% से 15% ब्याज वसूला जाता है। और वही ब्याज का फरक Bank का मुनाफा होता है।

 

इसके अलावा बैंक बहुत सारी चीजों पर अपने Charges वसूल करती है वह भी बैंक का मुनाफा होता है। इतना ही नहीं Bank के खर्चे भी ज्यादा होते हैं। जैसे के आदमियों का पगार, जहाँ पर Bank की Branch खोली गई है उसका भाड़ा, इसके अलावा ओर भी कई सारे खर्चे और आमदनी होती है।

Conclusion

दोस्तों मैंने यहाँ पर Bank से जुड़ी हुई सभी जानकारी देने का प्रयास किया है। जिसके अंदर Bank लाने की जरूरत क्यों पड़ी Bank क्या है, Bank कितने प्रकार की होती है, Bank कौन-सी Services देती है, और Bank कैसे काम करती है, मैं मानता हूँ कि आपको समझ में आया होगा। अगर आपको कुछ समझ में ना आया हो या पूछना हो तो आप नीचे Comment करके पूछ सकते हो। इसके अलावा अगर आपको Mutual Fund, Account, Tally, Tax और Investment के बारे में कुछ भी जानकारी चाहिए तो आप Comment Box मैं पूछ ले। हो सके उतनी जल्दी जवाब देने का प्रयास करूंगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here